28 मई, 2022 को चेन्नई में तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री मुथामिझ अराईनार कलाईनार एम. करुणानिधि की प्रतिमा का अनावरण करने के पश्चात् भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु द्वारा दिया गया भाषण

चेन्नई | मई 28, 2022

“बहनो और भाइयो,

तमिलनाडू के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय डॉ. कलैगनार करुणानिधि की 98वीं जयंती समारोह के अवसर पर उनकी प्रतिमा का अनावरण करने के लिए आप सभी के बीच यहां आकर मुझे प्रसन्नता हो रही है। वे निश्चित रूप से भारत के सबसे डायनमिक (ऊर्जस्वी) मुख्यमंत्रियों में से एक थे।

मुझे इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में आमंत्रित करने के लिए मैं तमिलनाडू सरकार को धन्यवाद देता हूं। चेन्नई शहर मेरे हृदय के करीब है और मेरे जीवन में इसका एक विशेष स्थान है। मेरे बचपन के दिनों से नेल्लोर से, जहां का मैं हूं, इसकी निकटता के कारण चेन्नई का मुझ पर गहरा प्रभाव रहा है।

कई दशकों की सार्वजनिक जीवन की अपनी लंबी यात्रा के दौरान मुझे कलैगनार करुणानिधि के साथ घनिष्ठ रूप से बातचीत करने का सौभाग्य मिला है।

वे एक बहुमुखी प्रतिभा के धनी व्यक्ति थे, जिनमें अनेक प्रतिभाओं का अनोखा मेल था।

वे एक दक्ष राजनेता थे, जिन्होंने हर चुनाव में जीत प्राप्त की और लगभग पचास वर्षों तक अपनी पार्टी को नेतृत्व प्रदान किया। जैसा कि तिरुक्कुरल कहते हैं -

சொலல்வல்லன் சோர்விலன் அஞ்சான் அவனை

இகல்வெல்லல் யார்க்கும் அரிது.

(सोलालवल्लन सोरविलन अंजान अवनाई

इकलवेलाल यारक्कुम अरिधू।)

अर्थ : वचन में पराक्रमी, अविस्मरणीय मस्तिष्क, निर्भय वाणी, ऐसे मनुष्य पर विजय पाना कठिन है।

वे एक सक्षम मुख्यमंत्री थे, जिन्होंने अपने पीछे विकास और सामाजिक कल्याण की एक स्थायी विरासत छोड़ी है।

वे एक प्रतिभाशाली वक्ता थे, जो अपनी बुद्धि, साहित्यिक ज्ञान और बुद्धिमत्तापूर्ण व्याख्याओं से दर्शकों के मन को मोह सकते थे।

वे एक उत्कृष्ट विधायक थे, जिन्होंने रचनात्मक राजनीतिक बहस की कला में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया।उन्होंने हमेशा सत्ता की स्थिति का आनंद लेने की जगह खुद को सार्वजनिक सेवा के साधन के रूप में माना। कलैगनार ने कहा था-

பதவி என்பது முள்கிரீடம் போன்றது

पाधवी येनबाधु मूल किरीदम पोंद्रधु

अर्थ: सत्ता कांटों के ताज के समान है।

उनके पास एक कलात्मक, सांस्कृतिक और पत्रकारीय स्वभाव था, जिसने उन्हें 1948 में उनके नाटक "थुकुमेदाई" के काफी सफल होने के बाद "कलैगनार" का सम्मानजनक पदवी दिलाई।

वे वास्तव में एक बहुमुखी व्यक्तित्व थे, जिन्होंने तमिलनाडु के विकास के कैनवास पर एक अमिट छाप छोड़ी है।

अपनी पटकथाओं और संवादों के जरिए उन्होंने तमिल सिनेमा में एक नया मुकाम प्राप्त किया।

समसामयिक विषयों और राजनीतिक विश्लेषक पर एक व्यावहारिक टिप्पणीकार के रूप में कलैगनार ने एक मजबूत लेखनी का इस्तेमाल किया और पार्टी के प्रकाशन मुरासोली, जिसकी उन्होंने स्थापना की थी, में काफी लिखा।

कलैगनार करुणानिधि एक प्रशासक, सामाजिक कार्यकर्ता, राजनीतिक सुधारक, पटकथा लेखक, कवि, नाटककार, पत्रकार और लेखक के रूप में सामाजिक समानता और समावेशी विकास के लिए काम करने वाले व्यक्ति थे।

भाइयो और बहनो,

हम बहुत सौभाग्यशाली हैं कि 1947 में हमारी स्वतंत्रता के बाद हमारे देश में महान प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों की एक श्रृंखला रही है, जिन्होंने हमारे महान राष्ट्र के विकास पथ को आगे बढ़ाया है। उन्होंने राज्यों, केंद्रशासित प्रदेशों और केंद्र सरकार के स्तर पर लोगों की आकांक्षाओं, नीतियों को परिकल्पित करने, कार्यक्रम बनाने, संस्थानों का निर्माण करने के लिए शानदार प्रयास किए हैं। इन निरंतर प्रयासों ने हमारे देश को आगे बढ़ाया है। संविधान निर्माताओं की ओर से दिखाए गए प्रबुद्ध मार्ग से प्रेरित होकर इन नेताओं ने विभिन्न स्तरों पर हमारे संविधान में शब्दों को अर्थ देने का प्रयास किया है।

कुछ विचलनों को छोड़कर उन्होंने संविधान की प्रस्तावना में अंतर्निहित सोच को बनाकर रखते हुए भारत को एक जीवंत, प्रगतिशील लोकतंत्र के रूप में आकार देने में सहायता की है। कलैगनार करुणानिधि उन प्रतिष्ठित नेताओं की सूची में आते हैं, जिन्होंने लोगों को अपने काम के केंद्र में रखा था। उनके जैसे नेताओं को धन्यवाद, जिनकी वजह से देश ने अपने संघीय चरित्र को मजबूत किया है और जैसा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी इसे एक मजबूत 'टीम इंडिया' के रूप में सामने आना कहते हैं।

हमारे हर एक राज्य में एक जीवंत और अद्वितीय गुण है। हमारा हर एक राज्य भाषाई समृद्धि, साहित्यिक व सांस्कृतिक खजाने, उत्कृष्ट वास्तुकला, उल्लेखनीय शिल्प कौशल, वैज्ञानिक, औद्योगिक और कृषि उपलब्धियों से समृद्ध है। हम एक राष्ट्र के रूप में आगे बढ़े हैं और इस आकर्षक विविधता को पहचानने व मनाने और हर एक राज्य में अंतर्निहित शक्तियों के उपयोग के माध्यम से प्रत्यक्ष प्रगति की है। हमने महसूस किया है कि हम एक दुर्लभ समन्वय ला सकते हैं, अगर हम प्रचुर व छिपी हुई ऊर्जा का दोहन करते हैं, जो हमारे हर एक राज्य में हमारे प्रत्येक नागरिक के भीतर प्रज्वलित होने की प्रतीक्षा कर रही है।

कलैगनार करुणानिधि जैसे दूरदर्शी नेताओं ने यही काम करने के प्रयास किए थे। उनकी दृष्टि लोगों को सशक्त बनाने की थी, विशेष रूप से वे जो वंचित और विकास के दायरे से बाहर थे। वे एक ऐसे नेता थे जिन्होंने "उझावर संधाई (संधि)" या किसान बाजार और गरीबों के लिए एक स्वास्थ्य बीमा योजना के बारे में सोचा था। वे एक ऐसे नेता थे जिन्होंने औद्योगिक विकास, बुनियादी ढांचे और सूचना प्रौद्योगिकी को बढ़ावा दिया। वे एक ऐसे नेता थे जो अपनी मातृभूमि व मातृभाषा से प्यार करते थे और विश्व को राज्य की सांस्कृतिक विरासत और तमिल की शास्त्रीय भाषा में साहित्यिक कार्यों के बारे में जानने में सहायता करते थे। उन्होंने ही 1970 में तमिलनाडु के लिए प्रार्थना गीत 'तमिल थाई वजथु' की घोषणा की थी, जिसके साथ हम इस राज्य में सभी कार्यों की शुरुआत करते हैं।

बहनो और भाइयो,

कलैगनार करुणानिधि एक ऐसे नेता थे, जो अपने राजनीतिक विश्वासों और प्रतिबद्धता के साथ मजबूती से खड़े थे। इस बात को याद करना महत्वपूर्ण है कि कलैगनार करुणानिधि ने स्पष्ट शब्दों में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी की ओर से आपातकाल लगाने का विरोध किया था।

समाज के हाशिये से उठकर वंचितों के लिए बिना थके काम करना और कई दशकों तक सार्वजनिक जीवन के केंद्र में रहने वाले कलैगनार करुणानिधि के बहुआयामी कार्यों का तमिलनाडू के सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य पर स्थायी प्रभाव पड़ा है। कलैगनार ने अपने पीछे एक ऐसी स्थायी राजनीतिक विरासत छोड़ी है, जिसके बारे में बहुत कम नेता दावा कर सकते हैं। मुझे विश्वास है कि मौजूदा मुख्यमंत्री तिरु एम. के. स्टालिन अपने प्रसिद्ध पिता की दूरदृष्टि और कार्य का अनुसरण करेंगे।

इस विशेष कार्यक्रम में मुझे आमंत्रित करने के लिए मैं एक बार फिर तमिलनाडू सरकार को धन्यवाद देता हूं और मुख्यमंत्री तिरू स्टालिन, उनके कैबिनेट सहयोगियों व राज्य में काम कर रहे सभी लोक सेवकों को तमिलनाडू की विकास यात्रा को उसी ईमानदारी के साथ, जैसा कलैगनार ने किया था, आगे बढ़ाने के लिए उनके अथक प्रयासों के लिए शुभकामनाएं देता हूं। मुझे उम्मीद है कि राज्य सभी मोर्चों पर तेजी से प्रगति करेगा और केंद्र सरकार के साथ 'सहकारी संघवाद' व 'प्रतिस्पर्धी संघवाद' की सच्ची भावना से काम करते हुए आने वाले वर्षों में भारत को अपनी वास्तविक क्षमता का अनुभव कराएगा।

धन्यवाद!

जय हिंद!”