28 अक्टूबर, 2021 को पेरनेम, गोवा में संत सोहिरोबनाथ अंबिए गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड कॉमर्स के नए परिसर के उद्घाटन समारोह के अवसर पर भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु द्वारा दिया गया भाषण

गोवा | अक्टूबर 28, 2021

“मैं आज यहां गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड कॉमर्स, संत सोहिरोबनाथ अंबिए के नए परिसर के उद्घाटन के लिए आप सभी के बीच उपस्थित होकर प्रसन्न हूं ।
गोवा राज्य और इसके लोग मेरे दिल में एक विशेष स्थान रखते हैं और जब भी मैं इस खूबसूरत जगह पर आता हूं तो मैं फिर से ऊर्जावान महसूस करता हूं।
प्रिय बहनों और भाइयों,
जैसा कि आप सभी जानते हैं, उच्च शिक्षा बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह विभिन्न क्षेत्रों के लिए बहुत आवश्यक प्रशिक्षित मानव संसाधन प्रदान करती है जो आर्थिक विकास और सामाजिक कल्याण को संचालित करते हैं।
गुणवत्तापूर्ण उच्च शिक्षा निर्विवाद रूप से सभी विकसित अर्थव्यवस्थाओं की पहचान है। यह छात्रों को अधिक सार्थक और उत्पादक भूमिकाओं के लिए तैयार करती है और जीवन स्तर को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
मुझे यह जानकर खुशी हुई कि गोवा उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। महिलाओं के लिए उच्च शिक्षा में सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) राज्य में राष्ट्रीय औसत 27.3% के मुकाबले 30% है। पिछले पांच वर्षों में गोवा में उच्च शिक्षा के लिए लैंगिक समानता सूचकांक में सुधार हुआ है और आज महिला छात्रों की संख्या पुरुष छात्रों की तुलना में अधिक है। यह एक बहुत अच्छा संकेत है और इसे अन्य राज्यों के लिए प्रेरणा का काम करना चाहिए।
विषयों का सख्त अलगाव अब अतीत की बात है क्योंकि आज दुनिया हर प्रकार से योग्य शिक्षित व्यक्तियों और बेहतर शोध परिणामों को प्राप्त करने के लिए उच्च शिक्षा में एक बहु-विषयक दृष्टिकोण अपना रही है। विभिन्न आकलनों से पता चला है कि कला और सामाजिक विज्ञान के संपर्क में आने से छात्रों में रचनात्मकता, बेहतर आलोचनात्मक सोच, उच्च सामाजिक और नैतिक जागरूकता और बेहतर टीम वर्क एवं और संचार कौशल में वृद्धि होती है। 21वीं सदी की अर्थव्यवस्था में ऐसे गुणों की अत्यधिक मांग है जहां अर्थव्यवस्था का कोई भी क्षेत्र अलग-थलग रह कर काम नहीं करता है। इसलिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थानों में भी मानविकी को समान महत्व दिया जाना चाहिए और सभी कॉलेजों द्वारा अधिक बहु-विषयक पाठ्यक्रम शुरू किए जाने चाहिए।
यह प्रशंसनीय है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की सच्ची भावना के अनुरूप गोवा सरकार ने बहु-विषयक परियोजनाओं में शोध कार्य करने के लिए शोध (रिसर्च) फेलोशिप प्रदान करने के लिए गोवा राज्य शोध संस्थान (स्टेट रिसर्च फाउंडेशन) की स्थापना करने की योजना बनाई है। मुझे विश्वास है कि यह पहल उच्च शिक्षा के क्षेत्र में अनुसंधान और नवाचार में उत्कृष्टता पैदा करने के साथ ही उसे बढ़ावा देगी।
नवाचार ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था का एक प्रमुख संचालक है। भारत सूचना और संचार प्रौद्योगिकी में अपनी बढ़त और एक शिक्षित युवा आबादी के साथ ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था में विश्व नेता बनने की क्षमता रखता है। हमें अपने विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों में फलने-फूलने के लिए अनुसंधान और नवाचार के लिए सही पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की जरूरत है। मुझे विश्वास है कि विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति और शिक्षाविद नई शिक्षा नीति-2020 के उद्देश्यों के अनुरूप शोध पर आवश्यक बल देंगे।
प्रिय बहनों और भाइयों,
कई प्रख्यात भारतीय व्यक्तित्व या तो गोवा में पैदा हुए थे या इस प्राकृतिक रूप से सुंदर और सांस्कृतिक रूप से जीवंत राज्य में अपनी जड़ें ढूँढ़ते रहे हैं। संगीत के क्षेत्र में हमारे पास भारत रत्न सुश्री लता मंगेशकर, पद्म विभूषण श्रीमती आशा भोसले और श्री रेमो फर्नांडीस जैसे कुछ नाम हैं। विज्ञान और अनुसंधान के क्षेत्र में; पद्म विभूषण श्री रघुनाथ अनंत माशेलकर, पद्म विभूषण श्री अनिल काकोडकर और अंतरराष्ट्रीय फैशन के क्षेत्र में पद्मश्री वेंडेल रॉड्रिक्स हैं।
आज हम गोवा के सबसे उत्तरी तालुका पेरनेम में हैं जो गोवा के मुक्ति संग्राम में सबसे आगे था। 1954-1955 का सत्याग्रह महान ऐतिहासिक महत्व की घटना है जिसमें त्याग और बलिदान शामिल है और जिसने मुक्ति आंदोलन की ओर गति पैदा की थी।
पेरनेम 18 वीं शताब्दी के कवि संत - सोहिरोबनाथ अंबिए का भी घर है, जिसके बाद उनकी तीसरी शताब्दी की जयंती मनाने के लिए इस कॉलेज का नाम बदलकर समारोह के रूप में रखा गया है। उनके अलावा, पेरनेम को भाऊ दाजी लाड, जीवबा दादा केरकर, अंजनीबाई मालपेकर, श्रीधर पारसेकर और प्रभाकर पंशीकर जैसी अन्य प्रतिष्ठित हस्तियों के घर होने का गौरव और सौभाग्य प्राप्त है।
संत सोहिरोबनाथ अंबिये की प्रसिद्ध कविताओं में से एक का शीर्षक "अंतरिचा ज्ञानदिवा मालवू नाको रे" है। अंग्रेजी में अनुवादित इस रचना का अर्थ है: "कभी भी अपने दिल में ज्ञान का दीपक न बुझाएं।" यद्यपि यह कविता 18वीं शताब्दी में रची गई थी, तथापि इस कविता का सार पेरनेम के ग्रामीण तालुका में सामान्य शिक्षा का एक कॉलेज स्थापित करने के गोवा सरकार के निर्णय के साथ प्रतिध्वनित होता है और इस प्रकार यह सुनिश्चित करता है कि ज्ञान का दीपक जलता रहे और कभी बुझे नहींI
मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि पेरनेम कॉलेज ने पिछले कुछ वर्षों में लगातार प्रगति की है और वर्तमान में स्नातक (अंडरग्रेजुएट) और परा-स्नातक (पोस्टग्रेजुएट) दोनों स्तरों पर लगभग 744 छात्रों और 33 शिक्षण स्टाफ का एक संकाय है।
यह विस्तार छात्रों की बढ़ती संख्या की शैक्षिक आवश्यकता को पूरा करेगा। मुझे यह जानकर खुशी हुई कि कॉलेज छात्रों की खेल, सह-पाठ्यचर्या और तकनीकी जरूरतों को पूरा करने के लिए सुसज्जित है। मुझे विश्वास है कि ग्रामीण पेरनेम से संबंधित छात्र विस्तारित सुविधाओं से बहुत लाभान्वित होंगे।
मुझे यह जानकर भी प्रसन्नता हो रही है कि एक बड़े पुस्तकालय, विशाल सभागार और हवादार कक्षाओं के अलावा, कॉलेज में एक वेधशाला भी है जिसमें एक परिष्कृत दूरबीन, एक रिकॉर्डिंग स्टूडियो, एक तितली पार्क और एक ठीक-ठाक वनस्पति उद्यान है।
प्रिय मित्रों,
एक तितली और एक बगीचा उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि नवीनतम सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी उपकरण)। हमें प्रगति करनी चाहिए, लेकिन प्रकृति की उपेक्षा नहीं करनी चाहिए। इसलिए मैं हमेशा छात्रों को अपना आधा समय कक्षा में और शेष आधा खेल के मैदान में या प्रकृति की गोद में बिताने की आवश्यकता की वकालत करता हूं। देश में गैर-संचारी रोगों की बढ़ती घटनाओं के साथ, सभी युवाओं को मेरी सलाह है कि गतिहीन जीवन शैली, अस्वास्थ्यकर आहार की आदतों और हानिकारक पदार्थों के सेवन से बचें। नियमित व्यायाम या योग करके शारीरिक रूप से स्वस्थ रहना महत्वपूर्ण है।
यह प्रशंसनीय है कि इस कॉलेज में पूरी तरह से सुसज्जित व्यायामशाला, राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) और राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) इकाइयां भी हैं। मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि कबड्डी, खो-खो और वॉलीबॉल जैसे खेलों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मैं समझता हूं कि आपके कई छात्रों ने विश्वविद्यालय, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर पदक जीते हैं।
मुझे बताया गया है कि इस कॉलेज सहित गोवा में कई संस्थानों में वाणिज्य और आर्थिक प्रयोगशालाएं तथा भाषा प्रयोगशालाएं स्थापित की गई हैं। यह बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि हमें न केवल विज्ञान में बल्कि सामाजिक विज्ञान, भाषाओं और वाणिज्य तथा आर्थिक क्षेत्र में भी विश्व स्तर के शोधकर्ताओं को तैयार करना चाहिए। मैं इस बात की सराहना करता हूं कि कॉलेज ने वाणिज्य में अनुसंधान की सुविधा के लिए एक संयुक्त मंच प्रदान करने के लिए गोवा के अन्य कॉलेजों के सहयोग से एक वाणिज्य में एक संकुल शोध केंद्र ('क्लस्टर रिसर्च सेंटर इन कॉमर्स') का गठन किया है।
प्रिय मित्रों,
भारत को पचास ख़रब (पांच ट्रिलियन) अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने और लोगों के जीवन स्तर को ऊपर उठाने की हमारी खोज में वाणिज्य एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है। ई-कॉमर्स के आगमन के साथ, यह अनुशासन तेजी से बदल रहा है और व्यवधानों और नवाचारों की झड़ी लगा रहा है। मैं आपसे वैश्विक स्तर पर भारत को व्यापार और वाणिज्य में अग्रणी राष्ट्र बनाने के लिए वाणिज्य के इन उभरते क्षेत्रों में अनुसंधान करने का आग्रह करूंगा।
बहनों और भाइयों,
प्राचीन काल में, कई अन्य देशों के छात्र नालंदा, विक्रमशिला और तक्षशिला जैसे प्रसिद्ध भारतीय संस्थानों में अध्ययन के लिए आते थे। भारत विश्व गुरु के नाम से प्रसिद्ध था। हमें उस गौरव को फिर से हासिल करना है और भारत को शिक्षा, अनुसंधान और नवाचार के क्षेत्र में एक अग्रणी राष्ट्र बनाना है।
मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि उच्च शिक्षा निदेशालय ने समग्र और अनुकूल ज्ञान पारिस्थितिकी के माध्यम से शैक्षिक उत्कृष्टता प्राप्त करने की दिशा में विभिन्न पहल की हैं । गोवा में कॉलेजों के पाठ्यक्रम से संबंधित विश्व स्तरीय शैक्षिक ई-सामग्री के विकास के लिए ऐसी ही एक परियोजना है-दिशात्वो (डीआईएसएचएटीवीओ); 'आदान-प्रदान और देखरेख’ (‘शेयर एंड केयर') की सच्ची भावना में, यह ई-कंटेंट दुनिया भर के शैक्षणिक समुदाय के लिए निशुल्क रूप से उपलब्ध कराया गया है। मैं पूरी टीम को विशेष रूप से कोविड -19 महामारी के दौरान इतने बड़े कार्य को पूरा करने के लिए बधाई देता हूं।
मैं शिक्षकों और छात्रों से आग्रह करता हूं कि वे हमेशा मानदंडों को ऊंचा रखें और उत्कृष्टता के लिए प्रयास करें। आपके भविष्य के प्रयासों के लिए मेरी शुभकामनाएं!

जय हिन्द!”