18 मई, 2022 को तमिलनाडु के उधगमंडलम से अनंत बजाज रेटिना संस्थान - रेटिना रोगों के लिए उत्कृष्टता केंद्र का उद्घाटन करने के बाद भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु द्वारा वर्चुअली दिया गया भाषण

तमिलनाडु | मई 18, 2022

“बहनों और भाइयों,

एल. वी. प्रसाद नेत्र संस्थाेन (एलवीपीईआई) और बजाज समूह के सहयोग से स्थादपित अनंत बजाज रेटिना इंस्टीट्यूट- रेटिना रोगों के लिए उत्कृष्टता केंद्र का वर्चुअल तरीके से उद्घाटन करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है। सभी जरूरतमंद लोगों को सस्तीं, सुलभ और गुणवत्तापूर्ण रेटिना चिकित्साे सेवाएं प्रदान करने के लिए दो प्रतिष्ठित संस्थानों के बीच इस उपयोगी साझेदारी के लिए मेरी शुभकामनाएं।

बहनों और भाइयों,

विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट से पता चलता है कि विश्व स्तर पर करीब 2.2 अरब लोगों को निकट या दूर दृष्टि दोष है। यह चौंकाने वाला आंकड़ा बताता है कि इनमें से कम से कम 1 अरब या लगभग आधे मामलों में दृष्टि हानि को रोका जा सकता था अथवा अब तक उसका समाधान नहीं किया गया है।

अध्ययनों से संकेत मिलता है कि इन समस्याकओं के बीच विकासशील देशों में रेटिना संबंधी रोग दृष्टि हानि का एक उभरता हुआ कारण है। आप भलीभांति जानते हैं कि मानव नेत्र एक बहुत ही जटिल अंग है जिसमें रेटिना हमारे आसपास की दुनिया को देखने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। क्षतिग्रस्त हो जाने पर वह गंभीर एवं अपरिवर्तनीय दृष्टि हानि का कारण बन सकता है। दृष्टि के लिए खतरा पैदा करने वाली रेटिना संबंधी प्रमुख समस्यातओं में डायबिटिक रेटिनोपैथी, मैकुलर डिजनरेशन और रेटिनल डिटैचमेंट आदि शामिल हैं।

मुझे यह जानकर खुशी हुई कि एलवीपीईआई को भी रेटिना चिकित्साउ में विशेषज्ञता प्राप्त् है और क्लिनिक में रेटिना फैकल्टी द्वारा 1,00,000 से अधिक रोगियों को देखा जाता है और एलवीपीईआई में हर साल 20,000 से अधिक रेटिना सर्जरी की जाती है। मुझे विश्वाोस है कि बजाज समूह के साथ किया गया यह सहयोग भारत में रेटिना चिकित्सा को कहीं अधिक उन्नत बनाएगा और न केवल भारतीय बल्कि विदेशी लोगों के लिए भी अत्याधुनिक उपचार उपलब्ध कराएगा।

बहनों और भाइयों,

यह एक निर्विवाद तथ्य है कि निवारक एवं उपचारात्मक नेत्र और विशेष रूप से रेटिना स्वास्थ्य जैसे विशेष क्षेत्र के बारे में आम लोगों के बीच जागरूकता काफी कम है।

इसलिए समय की मांग है कि नेत्र स्वास्थ्य के महत्व के बारे में लोगों के बीच जागरूकता बढ़ाई जाए। इसके लियए विभिन्न क्षेत्रों की मशहूर हस्तियों एवं प्रतिष्ठित व्यंक्तियों को शामिल करते हुए स्थानीय भाषाओं में मल्टीमीडिया अभियान चलाया जाना चाहिए। लोगों तक यह संदेश पहुंचना चाहिए कि दृष्टि दोष को रोका जा सकता है और उसका इलाज भी किया जा सकता है।

बहनों और भाइयों,

जागरूकता के साथ-साथ देश भर में निवारक एवं उपचारात्मक नेत्र चिकित्सां को मजबूत करने के लिए एक बहु-आयामी रणनीति तैयार करने की तत्काल आवश्यकता है। विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में जहां नेत्र रोग विशेषज्ञों और ऑप्टोमेट्रिस्ट की पहुंच अपेक्षाकृत कम है, वहां रोके जा सकने वाले अंधेपन को कम करने की काफी गुंजाइश है।

हमें सभी गांवों में अपने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को प्राथमिक नेत्र चिकित्सास सुविधाओं से लैस और एकीकृत करना चाहिए। जितनी आसानी से बुनियादी नेत्र जांच की जा सकती है उसे देखते हुए हमारे सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (आशा कार्यकर्ताओं) को नेत्र रोगों के लिए प्रारंभिक जांच में प्रशिक्षित किया जाना चाहिए और फिर रोगियों को माध्यमिक या तृतीयक देखभाल केंद्रों में भेजा जा सकता है।

सरकारी प्रयासों के समर्थन में निजी अस्पतालों को भी गांवों में या कम से कम मंडल मुख्यालयों में अपनी सुविधाओं के सैटेलाइट सेंटर खोलने चाहिए। कॉरपोरेट संस्थाोनों को अपने सीएसआर फंड में ऐसे कार्यों को प्राथमिकता देनी चाहिए और गांवों में नेत्र चिकित्साथ एवं जांच शिविर खोलने में अस्पतालों की मदद करनी चाहिए। ग्रामीण परिवेश में सामुदायिक जागरूकता महत्वपूर्ण है और इसलिए समय-समय पर स्वास्थ्य संस्थानों और गैर-सरकारी संगठनों द्वारा सामुदायिक स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाने चाहिए।

बहनों और भाइयों,

आधुनिक जीवन शैली और कामकाज संबंधी जरूरतों ने लोगों के लिए औसत स्क्रीन समय को बढ़ा दिया है। लेकिन स्क्रीन पर ज्यादा देर तक देखने से हमारी आंखों पर दबाव पड़ सकता है और कई प्रकार के नेत्र रोग हो सकते हैं। हमें इन गैजेट्स के उपयोग को नियंत्रित करना चाहिए विशेष रूप से बच्चों के लिए जो प्रौद्योगिकी की लत का कहीं अधिक जोखिम उठाते हैं।

इसके अलावा हमें अपनी आंखों को पर्याप्त आराम देना चाहिए और स्वस्थ आहार लेना चाहिए। यह भी सुझाव दिया जाता है कि लोग अपने नेत्र स्वास्थ्य को नियंत्रण में रखने के लिए नियमित तौर पर जांच करवाएं।

बहनों और भाइयों,

एक बार फिर, मुझे आज अनंत बजाज रेटिना इंस्टीट्यूट का वर्चुअल तरीके से उद्घाटन करते हुए प्रसन्नता हो रही है। मुझे यह जानकर खुशी हुई कि संस्थान न केवल उच्च गुणवत्ता वाली रेटिना चिकित्साट तक लोगों की पहुंच बढ़ाएगा बल्कि नेत्र रोग विशेषज्ञों एवं नेत्र चिकित्साा कर्मियों को भी प्रशिक्षित करेगा। साथ ही संस्था न अनुसंधान क्षमता को बढ़ावा देगा और सामुदायिक नेत्र स्वास्थ्य कार्यक्रमों का विस्तार करेगा और रेटिना के रोगों की बेहतर चिकित्साो के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग करेगा। यह एक सराहनीय पहल है।

मैं इस महत्वपूर्ण साझेदारी के लिए एलवीपीईआई और बजाज समूह के प्रबंधन एवं कर्मचारियों के दृष्टिकोण और प्रयासों की सराहना करता हूं। इस संस्थान की सफलता और नेत्र चिकित्साव एवं विशेष रूप से भारत मंह रेटिना चिकित्सास में नई ऊंचाइयों तक पहुंचने के लिए मेरी शुभकामनाएं।

धन्यवाद। नमस्कार।

जय हिन्द!”