09 अगस्त, 2021 को उपराष्ट्रपति निवास, नई दिल्ली में 'एक्सेलरेटिंग इंडिया: 7 इयर्स ऑफ मोदी गवर्नमेंट' नामक पुस्तक का विमोचन करने के बाद सभा में भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु द्वारा दिया गया भाषण

नई दिल्ली | अगस्त 9, 2021

“मित्रों,
'एक्सेलरेटिंग इंडिया: 7 इयर्स ऑफ मोदी गवर्नमेंट' पुस्तक का विमोचन करने के लिए आज यहां आप लोगों के साथ आकर मुझे बहुत खुशी हो रही है। मुझे बताया गया है कि यह पुस्तक भारतीय शासन के 25 क्षेत्रों को कवर करने वाले 25 निबंधों का संग्रह है और इसमें 28 प्रतिष्ठित लेखकों का योगदान है। इसके संपादक राज्यसभा सदस्य, लेखक एवं प्रकाशक श्री के. जे. अल्फोंस को इसे प्रकाशित करने के लिए धन्यवाद।

भाइयों और बहनों,
भारत कुछ ही दिनों में अपनी आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। यह एक महत्वपूर्ण अवसर है जो हमारे दिमाग में उस संघर्ष और बलिदान को लाता है जिसके जरिये हमारे पूर्वजों ने औपनिवेशिक शासन के बीच हमारी आजादी हासिल की थी।

एक अटल संकल्प, क्रांतिकारी उत्साह और हमारी सभ्यता एवं आधुनिक मूल्यों में समन्वय के लिए प्रतिबद्धता के साथ इन महान आत्माओं ने हमारे संविधान के जरिये एक महान राष्ट्र को नए सिरे से स्थापित करने की बुनियाद रखी।

हमारा संविधान प्रत्येक व्यक्ति और समुदाय को सम्मानजनक जीवन जीने का अधिकार देने का वादा करता है और उन्हें किसी प्रकार के भेदभाव से भी बचाता है। हमने इसे हमेशा बनाए रखने और प्रत्येक व्यक्ति के लिए सुनिश्चित करने का संकल्प अपने गणतंत्र की शुरुआत में ही लिया था।

हम अपने 'आजादी का अमृत महोत्सव' मना रहे हैं। यह हमारी प्रगति का मूल्यांकन और विश्लेषण करने का भी समय है कि हमने आम आदमी के लिए इस वादे को कितने अच्छेह तरीके से निभाया है। मैं यह देखने के लिए इस जन-केंद्रित दृष्टिकोण को अपनाना चाहूंगा कि एक राष्ट्र के रूप में हम कहां हैं और आगे की राह कैसी है। कुल मिलाकर राष्ट्र केवल सीमाओं, प्रतीकों और संस्थाओं का समूह नहीं है बल्कि राष्ट्र उसके लोगों में निहित होता है।

प्रिय मित्रों,
मोदी सरकार के पिछले सात वर्षों का उल्लेख कई पहलों के लिए किया गया है जिसका वर्णन इस पुस्तक में काफी अच्छी तरह से दिया गया है। गहन चिंतन और सुधार की निरंतर प्रक्रिया के जरिये मौजूदा व्यवस्था की कार्य प्रणाली को अधिक प्रभावी बनाने पर ध्यान केंद्रित किया गया है। सरकार भी लीक से हटकर सोच रही है और इक्कीसवीं सदी की चुनौतियों का सामना करने के लिए शासन में बदलाव करने की कोशिश कर रही है।

चुनौतियां कई रही हैं। हम पिछले डेढ़ साल से इनमें से सबसे जटिल चुनौती का सामना कर रहे हैं। कोविड-19 वैश्विक महामारी ने हमारे जीवन में अभूतपूर्व व्यवधान डाला है। यह हमारे लिए इतनी बड़ी स्वास्थ्य चुनौती रही है कि जिसका हमने पिछले सौ वर्षों में सामना नहीं किया था।

सरकार दवाओं, टीकों, मास्क, सैनिटाइजर आदि के उत्पादन एवं आपूर्ति को बढ़ाकर और स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक बुनियादी ढांचे की व्यवस्था में तेजी लाकर बड़ी तत्परता के साथ इस चुनौती से निपट रही है।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति- 2017 में 'सभी भारतीयों के लिए अच्छे स्वास्थ्य एवं तंदुरुस्ती के हरसंभव उच्चतम स्तर को हासिल करने' का दृष्टिकोण है। 2018 में आयुष्मान भारत कार्यक्रम को प्राथमिक स्वास्थ्य एवं कल्याण केंद्रों पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक स्वास्थ्य आश्वासन योजना के साथ शुरू किया गया था। इस तरह की नीतियां और योजनाएं देश के सामने मौजूद और आगे उभरने वाली तमाम स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने में राष्ट्रीय क्षमता निर्माण के लिए एक मजबूत ढांचा प्रदान करती हैं।

प्रधानमंत्री की व्यक्तिगत पहल के जरिये हमने एक बेहद सफल स्वच्छ भारत अभियान चलाया। इसके तहत गरीबों के लिए 10 करोड़ से अधिक शौचालय बनाए गए जिससे लाखों बच्चों को डायरिया से होने वाली मौतों से बचाया जा सका और महिलाओं को सम्मान और सुरक्षा मिली। पोषण पर केंद्रित पोषण अभियान और समग्र स्वास्थ्य के लिए योग देश की व्यापक स्वास्थ्य सेवा रणनीति में शामिल हैं।

मित्रों,
शिक्षा अगला महत्वपूर्ण क्षेत्र है जो हमारे मानव संसाधन की गुणवत्ता निर्धारित करता है। साथ ही यह हमारी प्रगति को टिकाऊ, समावेशी और सामंजस्यपूर्ण बनाने के लिए एक शक्तिशाली उत्प्रेरक हो सकता है।

हालिया राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) वास्तव में एक दूरदर्शी दस्तावेज है जो इस वादे को पूरा कर सकती है। यह भारत में शिक्षा को एक समग्र, मूल्य-आधारित एवं सुखद अधिगम अनुभव बना सकती है। यहां तक कि उच्च शिक्षा के मोर्चे पर भी अनुसंधान में सुधार और संस्थानों के बेहतर गुणवत्ता मूल्यांकन के साथ भारत वैश्विक मंच पर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है।

प्राथमिक एवं माध्यमिक स्तरों पर शिक्षा के माध्यम के रूप में मातृभाषा पर जोर देना एनईपी का एक ऐसा महत्वपूर्ण घटक है, जो मेरे दिल के काफी करीब है। व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को भी मातृभाषा में प्रस्तुैत करने संबंधी सरकार की हालिया पहल एक स्वागत योग्य कदम है।

मित्रों,
मोदी सरकार ने कई योजनाएं, कार्यक्रम और नीतियां शुरू की हैं। मैंने मानव विकास से संबंधित दो क्षेत्रों का उल्लेख केवल उदाहरण के तौर पर किया है। और भी बहुत कुछ हैं। इस पुस्त क में देश के कुछ प्रबुद्ध लोगों द्वारा वर्षों के अनुभव के साथ काफी सक्षमता इन सबका विश्लेषण किया गया है।

जब योजना आयोग को नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया के रूप में परिवर्तित किया गया था तो स्पष्ट तौर पर दिशा निर्धारित की गई थी। सुधार, प्रदर्शन और परिवर्तन शासन को एक नए रूप में स्थाुपित करने वाला नया राष्ट्रीय मंत्र बन गया है।

जरूरत इस बात की है कि हमारे द्वारा लिए गए प्रत्येक नीतिगत निर्णय और हमारे द्वारा तैयार किए जाने वाले प्रत्येक कार्यक्रम में परिवर्तनकारी दृष्टिकोण और सुधारवादी उत्साह व्याप्त हो।

हमारी जैसी लोकतांत्रिक एवं संघीय व्यवस्था में प्रगति केवल केंद्र और राज्य सरकारों के बीच संवाद से ही संभव है। टीम इंडिया की अवधारणा, जिसे प्रधान मंत्री मोदीजी ने अक्सर रेखांकित किया है, एकमात्र रास्ता है।

दूसरा, हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विकास नीतियों और कार्यक्रमों का लाभ सभी तक पहुंचे, खासकर सबसे कमजोर एवं हाशिए पर मौजूद लोगों तक। आकांक्षी जिला कार्यक्रम एक अच्छी पहल है जो उन क्षेत्रों में विकास में तेजी लाने का प्रयास करती है जो पीछे रह गए हैं।

मित्रों,
मुझे खुशी है कि ऐसे कई कार्यक्रम शुरू किए गए हैं जिनसे 'ईज ऑफ लिविंग' में सुधार होगा और कोई भी पीछे नहीं रहेगा।

जन-धन योजना ने गरीबों के लिए बैंकिंग का लोकतंत्रीकरण किया है। इसी प्रकार प्रधानमंत्री आवास योजना, सौभाग्य योजना, उज्ज्वला योजना जैसी तमाम योजनाओं ने आवास, बिजली, ईंधन जैसी सुविधाओं तक गरीबों की पहुंच में काफी सुधार किया है। मैं 2024 तक लगभग 20 करोड़ घरों में नल जल कनेक्शन देने संबंधी महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित करने के लिए सरकार की सराहना करता हूं।

आगे चलकर हमें न केवल पहुंच में सुधार लाने बल्कि इन सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार लाने और समय पर डिलिवरी सुनिश्चित करने पर ध्याहन केंद्रित करना चाहिए। ऐसा हमारे मॉडलों की समीक्षा करने और बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले जिलों से अच्छी प्रथाओं का अनुकरण करने से संभव होगा।

मित्रों,
अच्छी शिक्षा के साथ-साथ हमें अपने युवाओं को सही कौशल से लैस करना चाहिए और उन्हें पूरी तरह फलने- फूलने के लिए सही सहयोग प्रदान करना चाहिए। इसके लिए बुनियादी ढांचे में सुधार लाने, एक अनुकूल कारोबारी माहौल तैयार करने, नई तकनीक को अपनाने पर जोर देना आवश्यधक है।

उदाहरण के लिए, कृषि को ही लेते हैं। भले ही हमारे किसान देश का पेट भरने के लिए दिन-रात मेहनत करते हैं लेकिन वर्षों से उनकी आय महज निर्वाहयोग्य रही है। लेकिन सॉइल हेल्थ कार्ड जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से सही सहयोग, ई-नाम जैसे बाजार के अवसर, कृषि सिंचाई योजना के जरिये सिंचाई परियोजनाएं, फसल बीमा योजना के जरिये आसान फसल बीमा और खाद्य प्रसंस्करण के जरिये फसलों के बेहतर मूल्यवर्धन के साथ-साथ खाद्यान्न का रिकॉर्ड उत्पादन करते हुए हमारे किसान चमत्कार कर रहे हैं। हमें फसलों के विविधीकरण और वैज्ञानिक उत्पादन पर जोर देना होगा। इसके अलावा खेतों से बाजारों के बीच कीमतों में गिरावट को दूर करना होगा ताकि किसानों को उनकी मेहनत का फल मिल सके।

इसी प्रकार, हमें कौशल विकास योजना जैसे सरकारी कौशल कार्यक्रमों को पूरक बनना होगा और अपने युवाओं को नवीनतम तकनीकों में सक्षम होगा ताकि उनकी रोजगार क्षमता में सुधार लाया जा सके। सरकार ने देश में कौशल विकास को गति देने के लिए एक समर्पित कौशल विकास मंत्रालय बनाया है। मुझे खुशी है कि सीएसआर फंड और गैर-सरकारी संगठनों के जरिये उद्योग जगत के नेता इन प्रयासों में योगदान दे रहे हैं।

मुझे इस बात की भी खुशी है कि सरकार पिछले कुछ वर्षों के दौरान आत्मनिर्भर भारत जैसे प्रमुख कार्यक्रमों के माध्यम से कारोबारी सुगमता में सुधार कर रही है। इसके जरिये विशेष तौर पर स्टार्टअप और भारतीय कंपनियों को प्रोत्साहित की जा रही है। एक संपन्न अर्थव्यवस्था हमारे देश के लिए काफी संपत्ति और हमारे युवाओं के लिए रोजगार के व्यापक अवसर पैदा करेगी।

मित्रों,
अंत में मैं केवल इतना कहना चाहूंगा कि हम अपने देश के संस्थापकों के सपनों से काफी आगे निकल चुके हैं। उन सपनों को साकार करने के लिए सरकारें लगातार प्रयास करती रही हैं। वर्तमान सरकार ने जो किया है वह सुधार की गति को तेज करने और भारत में शासन के तरीके को बदलने के लिए किया गया है। इससे देश कहीं अधिक आत्मविश्वास एवं क्षमता के साथ अपनी विकास यात्रा पर आगे बढ़ेगा।

एक बार फिर, मुझे आज इस पुस्तक 'एक्सेलरेटिंग इंडिया' का विमोचन करते हुए काफी खुशी हो रही है। मुझे विश्वास है कि यह नरेन्द्र मोदी जी के डायनेमिक एवं दूरदर्शी नेतृत्व में पिछले 7 वर्षों के दौरान हुई प्रगति के एक उत्कृष्ट एवं उद्देश्यपूर्ण दस्तावेज के रूप में काम करेगी। यह पुस्तक हमारे नीति निर्माताओं के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका निभाएगी। यह अधूरे एजेंडे के प्रमुख तत्वों की पहचान करते हुए बताएगी कि और क्या करने की आवश्यकता है। इस पुस्तक को प्रकाशित करने के लिए लेखक एवं प्रकाशक श्री अल्फोंस को मेरी हार्दिक बधाई। उनके भविष्य के प्रयासों के लिए मेरी शुभकामनाएं।

जय हिंद!”