07 अक्टूबर, 2021 को दीमापुर, नागालैंड से नागालैंड में विभिन्न इमारतों और ढांचागत सुविधाओं का वर्चुअली उद्घाटन करने के अवसर पर भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु द्वारा दिया गया भाषण

दीमापुर | अक्टूबर 7, 2021

“बहनों और भाइयों,
मैं नगालैंड के इस खूबसूरत राज्य में आपके पास आकर वास्तव में बहुत खुश हूं।
आज इन इमारतों और परिसरों का उद्घाटन करते हुए नगालैंड की विकास यात्रा में एक पड़ाव को चिह्नित करते हुए मुझे काफी खुशी हो रही है।
मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि इन परिसरों में से एक सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार निदेशालय, कोहिमा का कार्यालय है। इसी भवन में नगालैंड का पहला सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क भी होगा और इसमें युवाओं को पोषित करते हुए उन्हें सफल उद्यमी बनाने के लिए अत्याधुनिक सुविधाएं भी होंगी।
मैंने विभिन्न गांवों में जिन सरकारी हाई स्कूल भवनों का उद्घाटन किया है वे नगालैंड में प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा में सुधार के लिए सरकार के प्रयासों में योगदान देंगे। आज हम जो इमारतें देख रहे हैं वे कल नगालैंड के युवाओं के उज्ज्वल भविष्य की बुनियाद होंगी।
अंत में, 23 एकड़ में विस्तृत मंत्रियों के लिए आवासीय परिसर में सरकारी मशीनरी के कामकाज में सुगमता के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा उपलब्ध होगा।
मैं राज्य सरकार और सभी संबंधित कार्यालयों को बधाई देता हूं जिन्होंने इस बुनियादी ढांचे के विकास एवं परिचालन के लिए काम किया है।
यहां मुझे जिस गर्मजोशी से स्वागत किया गया उसके लिए मैं आप सभी को भी धन्यवाद देता हूं। नगालैंड आतिथ्य सत्कार, मित्रता और उदारता की भावना का पर्याय है। यह समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं और भाषाई विविधता का एक प्राचीन भंडार है।
मित्रों,
मैंने हमेशा कहा है कि प्रगति एवं समृद्धि के लिए शांति एक अनिवार्य शर्त है। मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि आज नगालैंड गर्व के साथ दावा कर सकता है कि समाज के सभी वर्ग, जिसमें विविध जनजातियां शामिल हैं, सर्वांगीण विकास को बढ़ावा देने के लिए एकजुटता में विश्वास करते हैं। मुझे विश्वास है कि एकजुटता की भावना से प्रेरित होकर नगालैंड के लोग राज्य की प्रगति को तेजी से आगे बढ़ाने में योगदान देंगे। हमें राज्य, क्षेत्र और देश को सभी मोर्चों पर नई ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए टीम इंडिया की भावना से काम करना चाहिए।
नगालैंड के चौतरफा विकास को सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ रही है। जैसा कि आप सब जानते हैं कि केंद्र सरकार पूर्वोत्तर क्षेत्र में बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचे के विकास पर ध्यान केंद्रित कर रही है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कई अवसरों पर एक्ट ईस्ट पॉलिसी के तहत विकास पर केंद्र सरकार के जोर को उजागर किया है। आप भी इससे सहमत होंगे कि यह पूर्वोत्तर क्षेत्र के सभी आठ राज्यों को विकास के इंजन के रूप में बदल देगा। रेल, सड़क, हवाई और नेटवर्क कनेक्टिविटी जैसे ठोस बुनियादी ढांचे के अलावा पूर्वोत्तर क्षेत्र में शांति के प्रयासों से विभिन्न राज्यों को फल मिला है।
इस क्षेत्र में विकास को बढ़ावा देने के लिए कनेक्टिविटी और बुनियादी ढांचे में सुधार के महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता है। एक तरफ नगालैंड अपनी विविधता, हस्तशिल्प एवं कृषि उत्पादों की समृद्धि और अपने मेहनती लोगों के लिए जाना जाता है। दूसरी ओर, नगालैंड के सर्वांगीण विकास को गति देने के लिए अभी भी विभिन्न क्षेत्रों में काफी संभावनाएं मौजूद हैं। यदि सभी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को प्राथमिकता के आधार पर तेजी से पूरा कर लिया जाता है तो आगामी वर्षों में नगालैंड को काफी लाभ होगा।
जीवन की सुगमता में सुधार लाने, व्यापार को बेहतर करने, स्कूली शिक्षा के नतीजों में सुधार लाने, स्वास्थ्य संकेतकों को बेहतर करने, सुरक्षा की स्थिति को बेहतर करने और पर्यटकों को राज्य की ओर आकर्षित करने के लिए बुनियादी ढांचे का विकास काफी महत्वपूर्ण है। बुनियादी ढांचे में सुधार से अर्थव्यवस्था को कई गुना लाभ होता है।
बहनों और भाइयों,
हाल के सतत विकास लक्ष्य सूचकांक- एसडीजी इंडिया इंडेक्स 2021 में नागालैंड ने विकास के कुछ सूचकांकों में अच्छा प्रदर्शन किया है, जबकि अन्य संकेतकों पर राज्य को काम करने की जरूरत है। मुझे यह जानकर खुशी हुई कि नागालैंड ने 'लैंगिक समानता', 'उमदा कार्य एवं आर्थिक विकास' और 'जमीनी स्तर पर जीवन' सहित कई क्षेत्रों में अच्छा प्रदर्शन किया है। यह तथ्य प्रशंसनीय है कि नगालैंड में महिलाओं के खिलाफ अपराध पूरे देश में सबसे कम हैं।
दूसरी ओर, राज्य को स्वास्थ्य एवं कल्याण, सस्ती एवं स्वच्छ ऊर्जा, स्थायी शहर एवं समुदाय, उद्योग एवं नवाचार और बुनियादी ढांचे जैसे संकेतकों में सुधार करने की आवश्यकता है। जैसा कि हम जानते हैं इस राज्य में जबरदस्त क्षमता है और मुझे विश्वास है कि यह 2030 तक समग्र रैंकिंग में अपनी वर्तमान स्थिति से काफी आगे निकल जाएगा।
सुशासन का एक महत्वपूर्ण पहलू सेवाओं का समय पर और सुगम डिलिवरी है। इंटरनेट के युग में जब एक बटन के क्लिक पर लोगों के लिए कई अन्य सेवाएं उपलब्ध हैं तो शासन को इसमें पीछे नहीं रहना चाहिए। हमें लोगों को निर्बाध तरीके से विभिन्न सेवाओं की समयबद्ध डिलिवरी सुनिश्चित करनी चाहिए।
डिजिटल प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा देना और विभिन्न परियोजनाओं के निष्पादन और हमारी प्रक्रियाओं के कार्यान्वयन में पूर्ण पारदर्शिता सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है। भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस होना चाहिए क्योंकि भ्रष्टाचार लोगों का दुश्मन है।
हमें डिलिवरी प्रक्रियाओं में नागरिकों को शामिल करना चाहिए क्योंकि सोशल ऑडिट जैसे सहभागी शासन तंत्र सरकारी योजनाओं में गुणवत्ता एवं जवाबदेही सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
मित्रों,
अपनी बात समाप्त करने से पहले मैं यह बताना चाहूंगा कि भारतीय अर्थव्यवस्था के तमाम क्षेत्रों में से एक क्षेत्र ऐसा भी है जिसने वैश्विक महामारी के बावजूद अच्छा प्रदर्शन किया। कृषि क्षेत्र में 4 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि के साथ वैश्विक महामारी ने एक बार फिर हमारे किसानों की मेहनत और लचीली प्रकृति को साबित कर दिया है। उन्हें सलाम।
कोहिमा में हाल में उद्घाटन की गई पूर्वोत्तर क्षेत्र मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित राज्य मृदा परीक्षण प्रयोगशाला से नगालैंड के किसानों को काफी लाभ होगा। मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर गांव के एक किसान के रूप में मैं कृषि को अधिक फायदेमंद एवं आकर्षक बनाने में प्रौद्योगिकी की भूमिका के बारे में अच्छी तरह जानता हूं।
नगालैंड की अर्थव्यवस्था में कृषि की महत्वपूर्ण भूमिका है। किसान यह सुनिश्चित करने के लिए मृदा परीक्षण प्रयोगशाला द्वारा प्रदान की जाने वाली सुविधाओं का अधिकतम उपयोग कर सकते हैं कि उनकी कृषि गतिविधियों से अधिकतम लाभ प्राप्त हो सके। यह जानकर खुशी हुई कि नगालैंड की कॉफी नाम कमा रही है और उसे अन्य देशों को निर्यात किया जा रहा है।
पूर्वोत्तर क्षेत्र सभी तरह की क्षमताओं से परिपूर्ण है। जब यह क्षमता पूरी तरह से अनलॉक होगी तो यह क्षेत्र भारत के विकास की कहानी लिखने का मार्ग प्रशस्त करेगा।
एक बार फिर, मैं यहां नगालैंड आकर काफी खुश हूं। आपने मुझे जिस गर्मजोशी से स्वागत किया है उसके लिए मैं आप सभी का धन्यवाद करता हूं।
नमस्कार
जय हिन्द।”