योग, स्वास्थ्य के प्रति संपूर्ण दृष्टिकोण है जिसके शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक पहलू हैं: उपराष्ट्रपति

ऋषिकेश, उत्तराखंड
मार्च 3, 2018

योग आधुनिक विश्व को भारत की अमूल्य देन है;
उपराष्ट्रपति ने परमार्थ निकेतन अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव का उद्घाटन किया

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम.वेंकैया नायडु ने कहा है कि योग, स्वास्थ्य के प्रति संपूर्ण दृष्टिकोण है जिसके शारीरिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक पहलू हैं। वह आज परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश, उत्तराखंड में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे। उत्तराखंड के राज्यपाल डा. कृष्ण कांत पॉल, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत और अन्य गण्यमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि योग-विज्ञान प्राचीन लेकिन शाश्वत है और इस ज्ञान का उपयोग हमारे समकालीन जीवन को बेहतर, स्वस्थ और सुखद बनाने के लिए किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि शारीरिक व्यायाम का महत्व लगभग 11वीं सदी में हठ योग नामक योग की एक शाखा में उभरकर सामने आया और पिछले कुछ वर्षों में इन व्यायाम क्रियाओं को विश्वभर में महत्व और प्रमुखता मिली है। उन्होंने यह भी कहा कि हमने महसूस किया कि ज्ञान के इस खजाने को समूचे विश्व के साथ साझा किया जाना चाहिए क्योंकि योग का यह प्राचीन विज्ञान आधुनिक विश्व को भारत की अमूल्य देन है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि परमार्थ निकेतन में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव योग की शक्ति और सार्वभौमिक लोकप्रियता तथा विश्व के प्रत्येक कोने से लोगों को एक साथ लाने की इसकी क्षमता का पक्का प्रमाण है। उन्होंने आगे कहा कि ऋषि पतंजलि ने प्रथम योग दर्शन का संकलन किया था जिन्होंन योग को अपने स्वयं के अनियमित विचारों को नियंत्रित करने और आंतरिक सामंजस्य पैदा करने वाली शांत मन:‍स्थिति को प्राप्त करने की क्षमता के रूप में परिभाषित किया है। उन्होंने यह भी कहा कि योग से मनुष्य को अंतरात्मा का बोध करके और परिवेश के साथ पूर्ण शांति प्राप्त करके आध्यात्मिक तलाश में भी सहायता मिलती है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि आधुनिक युग की शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की स्वास्थ्य समस्याओं पर काबू पाने के लिए योग को हमारे रोजमर्रा के जीवन का अभिन्न भाग बनाया जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि योग एक संपूर्ण प्रणाली है जिसमें चित्त और शरीर एक हो जाते हैं और पूर्णत: तरोताजा हो जाते हैं। योग का उद्देश्य हमें संतुलन की अवस्था प्राप्त करने में हमारी सहायता करना है जब हम स्वयं के साथ शांत चित्त में होते हैं जिससे कि हम अपने इर्द-गिर्द शान्तिपूर्ण माहौल बना सके।

Is Press Release?: 
1