भारत के उपराष्ट्रपति ने पारसी नव वर्ष की शुरुआत के प्रतीक नवरोज़ के पावन अवसर पर सभी देशवासियों को बधाई व शुभकामनाएँ दी।

नई दिल्ली
अगस्त 15, 2020

मैं, पारसी नव वर्ष की शुरुआत के प्रतीक 'नवरोज़' के पावन अवसर पर सभी देशवासियों को बधाई देता हूँ।

पारसी समुदाय का भारतीय संस्कृति की 'पच्चीकारी' में विशेष स्थान है।

कठोर परिश्रम और समर्पण की अपनी भावना के माध्यम से भारत के पारसी समुदाय ने राष्ट्र निर्माण में अपना अमूल्य योगदान दिया है। पारसी नव वर्ष, जो कि वसंत के आरंभ होने का सूचक है, पुनरारम्भ और कायाकल्प के उत्सव का अवसर है। 'नवरोज़' को सच्चे अर्थो में मनाने का अर्थ है सद्-विचारों को आत्मसात करना, अच्छे कार्य करना, सत्य और सही मार्ग पर चलकर जीवन व्यतीत करना।

भारत तथा विश्व, कोविड-19 के प्रसार के विरुद्ध अनथक लड़ाई लड़ रहे हैं। यद्यपि 'नवरोज़' एक ऐसा अवसर है जब परिवार और मित्र एक साथ एकत्र होते हैं, पूजा करते हैं और उत्सव मनाते हैं। तथापि इस वर्ष हमें इस अवसर को सादगीपूर्वक मनाना है और अपने-अपने घरों के भीतर रहना है। हमें इस अवसर का उत्सव मनाने के दौरान शारीरिक दूरी और व्यक्तिगत साफ-सफाई के सुरक्षा मानदंडों का भी कड़ाई से पालन करना होगा।

यह त्यौहार हमारे जीवन में बंधुत्व, समृद्धि और प्रसन्नता लाए।

Is Press Release?: 
0