उपराष्ट्रपति ने लोगों से सामाजिक बुराइयां दूर करने और सामाजिक दायित्व पूरा करने का आग्रह किया।

नई दिल्ली
अगस्त 9, 2019

उपराष्ट्रपति ने कहा वृक्षारोपण और जल संरक्षण को जनआंदोलन बनाना चाहिए;
उपराष्ट्रपति ने भारत छोड़ो आंदोलन दिवस के अवसर पर स्वतंत्रता संग्राम के नायकों को श्रद्धांजलि दी;

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु ने कहा कि नए भारत के निर्माण के लिए भ्रष्टाचार और जाति आधारित भेदभाव जैसी सामाजिक बुराइयां दूर करना और सामाजिक दायित्वों को पूरा करना लोगों का दोहरा उद्देश्य होना चाहिए।

आज, भारत छोड़ो आंदोलन दिवस के अवसर पर संसद भवन परिसर में उपराष्ट्रपति ने संक्षिप्त वक्तव्य में स्वतंत्रता संग्राम के नायकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि आज की आवश्यकता है कि गरीबी और असमानताओं सहित सामाजिक बुराइयों को छोड़ना चाहिए और उनसे छुटकारा पाना चाहिए।

वृक्षारोपण के अतिरिक्त, उपराष्ट्रपति ने लोगों से आग्रह किया कि वे वृहत स्तर पर वर्षा जल संचयन और जल संरक्षण करें और स्वच्छ भारत की तरह इन्हें भी जन आंदोलन बनाएं। उन्होंने आगे कहा, 'कम करना, पुन: उपयोग करना और पुनर्चक्रण' जल संरक्षण का मंत्र होना चाहिए।

यह उल्लेख करते हुए कि पृथ्वी को हरा-भरा और स्वच्छ रखने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को वृक्षारोपण करना चाहिए। उपराष्ट्रपति ने कहा कि वृक्ष पारिस्थिकीय तंत्र का संतुलन बनाने और जैव विविधता बचाने में सहायक होते हैं। उन्होंने बच्चों और युवाओं से कहा कि वे इस प्रकार के रचनात्मक कार्यक्रमों में सक्रिय रुप से भाग लें।

उपराष्ट्रपति ने आगे कहा कि 'प्रत्येक व्यक्ति को प्रकृति से प्रेम करना चाहिए और उसके साथ रहना चाहिए।'

इस अवसर पर राज्य सभा के महासचिव श्री देश दीपक वर्मा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Is Press Release?: 
1