उपराष्ट्रपति ने डाटा संरक्षण के लिये देशों से एकजुट होने का आह्वान किया

नई दिल्ली
जुलाई 25, 2019

बहुपक्षीय डाटा-शेयरिंग तंत्र विकसित करना आवश्यक: उपराष्ट्रपति
अप्रमाणित, असत्यापित गलत जानकारी और फर्जी समाचारों को लेकर चेताया;
‘न्यू-एज टेक्नोलॉजी एंड इंडस्ट्रियल रिवोल्युशन 4.0’ नामक पुस्तक का विमोचन किया’

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु ने कहा कि वर्तमान युग में डाटा संरक्षण एवं उसे साझा किए जाने को लेकर अंतर्राष्ट्रीय एकजुटता कायम करना सभी देशों के लिए अत्यावश्यक है।

यह मानते हुए कि साइबर सुरक्षा और डाटा संरक्षण अत्यधिक महत्वपूर्ण हो गया है, उपराष्ट्रपति ने कहा कि " पर्याप्तता और पारस्परिक आदान-प्रदान के सिद्धांतों पर आधारित एक बहुपक्षीय डाटा-शेयरिंग तंत्र विकसित करने की तत्काल आवश्यकता है।"

राज्यसभा सदस्य डॉ. नरेन्द्र जाधव द्वारा लिखित ‘न्यू-एज टेक्नोलॉजी एंड इंडस्ट्रियल रिवोल्युशन 4.0’ (नए युग की प्रौद्योगिकी और औद्योगिक क्रांति 4.0) नामक पुस्तक का आज उपराष्ट्रपति भवन में विमोचन करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि विश्वभर में प्रौद्योगिकीय उन्नति से होने वाले संभाव्य लाभों को और अधिक समावेशी बनाने के लिए देशों के बीच डिजिटल असमानता को समाप्त करना अत्यावश्यक है।

श्री नायडु ने जोर देकर कहा कि आधारभूत सुविधा, ऊर्जा, जल, अपशिष्ट प्रबंधन, परिवहन, भू-संपदा एवं शहरी आयोजना जैसे विभिन्न क्षेत्रों की चुनौतियों के समाधान के लिए उन्नत प्रौद्योगिकियों का प्रयोग करना जरूरी है। उन्होंने यह भी बताया कि वैश्विक तापन एवं जलवायु परिवर्तन के दुष्परिणामों को रोकने के लिए चल रहे वैश्विक प्रयासों के संवर्धन हेतु नई प्रौद्योगिकी का प्रयोग किया जाना चाहिए।

उपराष्ट्रपति ने तथ्यहीन, असत्यापित गलत जानकारी और फर्जी समाचारों को रोके जाने की जरूरत पर भी जोर दिया। उन्होंने नए युग की प्रौद्योगिकी लागू होने के कारण रोजगार विस्थापन और उसमें कमी होने को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए, व्यवसायिकों को नया कौशल प्रदान करने की जरूरत पर बल दिया।

इस अवसर पर कोणार्क पब्लिशर्स के अध्यक्ष श्री के.पी.आर. नायर, श्रीमती वसुंधरा जाधव और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Is Press Release?: 
1