उपराष्ट्रपति ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए ज़रुरी वातावरण विकसित कर भारत को एक वैश्विक खेल महाशक्ति बनाने की दिशा में कदम उठाने का आह्वान किया

नई दिल्ली
सितम्बर 30, 2019

उन्होंने कॉर्पोरेट जगत से जुड़े व्यक्तियों, समाजसेवियों और प्रतिष्ठित खिलाड़ियों से खेल के बुनियादी ढांचे के निर्माण में सहायता करने को कहा;
उपराष्ट्रपति ने कहा कि खेल संस्कृति को पुनर्जीवित किया जाए और विद्यालय जाने की आयु से ही इसे बढ़ावा दिया जाना चाहिए
खेल और योग लोगों के दैनिक जीवन के अभिन्न अंग होने चाहिए;
उपराष्ट्रपति ने मैरी कॉम बॉक्सिंग फाउंडेशन के मुक्केबाजों के साथ बातचीत की

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडु ने खेल के बुनियादी ढांचे, विशेष रुप से पूर्वोत्तर क्षेत्र में, के निर्माण में सरकार के प्रयासों में योगदान देने के लिए कॉर्पोरेट जगत, समाजसेवियों और भारत के प्रतिष्ठित खिलाड़ियों का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि सभी को सरकार के खेल सुविधाओं को सुधारने के प्रयास का समर्थन करना चाहिए।

15 असम राइफल्स द्वारा आयोजित राष्ट्रीय संवादमूलक दौरे पर आए मैरी कॉम रीजनल बॉक्सिंग फाउण्डेशन, इम्फाल, मणिपुर के लगभग 20 युवा मुक्केबाजों से आज नई दिल्ली में बातचीत करते हुए श्री नायडु ने कहा कि भारत को वैश्विक खेल महाशक्ति बनाने के लिए देश में खेलों के लिए आवश्यक वातावरण तैयार करने की तत्काल आवश्यकता है।

उपराष्ट्रपति ने देश के कोने-कोने से खेल प्रतिभाओं की पहचान करने, उन्हें प्रोत्साहित करने और उनका सहयोग करने के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए 'खेलो इंडिया' अभियान के लिए सरकार की सराहना की जिसमें उन्हें शीर्ष स्तरीय बुनियादी ढांचा और उच्चतम स्तर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

श्री नायडु ने मैरी कॉम, पी. वी. सिंधु, साइना नेहवाल, दीपा करमाकर जैसे चैम्पियनों और अन्य लोगों से नेतृत्व करने और युवाओं, विशेष रूप से बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रेरित करने को कहा। उन्होंने आगे कहा कि इसे जमीनी स्तर तक ले जाने और देश में सभी प्रकार के खेलों के लिए मजबूत ढांचा तैयार करने तथा भारत को एक महान खेल राष्ट्र बनाने की तत्काल आवश्यकता है।

खेल संस्कृति को पुनर्जीवित करने और उन्हें विद्यालय जाने की आयु से ही तैयार करने पर बल देते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि खेलकूद अथवा योग अथवा कोई भी शारीरिक गतिविधि लोगों के दैनिक जीवन का अभिन्न अंग होनी चाहिए।

यह कहते हुए कि फिट और स्वस्थ रहने से किसी भी व्यक्ति, परिवार पर और समाज पर बहुत प्रभाव पड़ेगा, उन्होंने कहा कि 'हमारे जैसे युवा देश में जिसमें 65 प्रतिशत से अधिक आबादी 30 वर्ष से कम आयु की है उसमें बच्चों और युवाओं और वरिष्ठों को किसी भी प्रकार की शारीरिक गतिविधि कर तंदुरुस्त रहने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।'

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए देश के युवाओं को 2022 तक कम-से-कम 15 पर्यटन स्थलों का दौरा करने का आह्वान किया था, जिसका उल्लेख करते हुए श्री नायडु ने कहा कि इस प्रकार के दौरों से देश की अनूठी सांस्कृतिक विविधता के बारे में उनकी समझ बढ़ेगी।

यह कहते हुए कि यात्रा जीवन का एक अनिवार्य अंग है और यह हमें ऐसी अनेक बातें सिखाती है जो कक्षा में नहीं सिखाई जा सकती हैं, उपराष्ट्रपति ने युवाओं, विशेषरूप से विद्यार्थियों से भारत की संस्कृति, विरासत, भाषाओं, और खानपान की विविधता के बारे में जानने के लिए "भारत दर्शन" करने को कहा।

उपराष्ट्रपति ने श्रीमती मैरी कॉम और उनके पति श्री के. ओनलर कॉम की मणिपुर और अन्य पूर्वोत्तर क्षेत्रों के दूरदराज और सुदूरवर्ती इलाकों के बच्चों और युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए रीजनल बॉक्सिंग फाउंडेशन की स्थापना करने के लिए बहुत प्रशंसा की। उन्होंने इन मुक्केबाजों के लिए राष्ट्रीय संवादमूलक दौरे का आयोजन करने के लिए 15 असम राइफल्स की भी सराहना की।

इस अवसर पर उपराष्ट्रपति की पत्नी श्रीमती उषा नायडु, 15 असम राइफल्स के प्रतिनिधि और अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

Is Press Release?: 
1