देश की आर्थिक समृद्धि में बड़ी भूमिका के लिए एसएमई को सुदृढ़ बनाना होगा : उपराष्ट्रपति लघु और मध्यम उद्यमों संबंधी 21वें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन

नई दिल्ली
नवम्बर 30, 2017

भारत के उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा है कि देश की आर्थिक समृद्धि में बड़ी भूमिका के लिए लघु एवं मध्यम उद्यमों को सुदृढ़ बनाना होगा। वे आज यहां लघु एवं मध्यम उद्यमों हेतु वैश्विक संघ द्वारा आयोजित लघु और मध्यम उद्यम संबंधी 21वें अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर केन्द्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री, श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु, बांग्लादेश सरकार के उद्योग मंत्री, श्री अमीर हुसैन अमु; मॉरीशस सरकार के व्यापार, उद्यम और सहकारिता मंत्री, श्री सौमिलदत्त भोला; डब्ल्यू.ए.एस.एम.ई. के अध्यक्ष, श्री अल्हा जी बाबाले उमराव गिरी और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि एस.एम.ई. भारत के सकल घरेलू उत्पाद के 45 प्रतिशत तक का योगदान देता है तथा लगभग 46 करोड़ लोगों को रोजगार देता है जो कि देश में कृषि क्षेत्र के पश्चात् दूसरा सबसे बड़ा कृतिक बल है और इसमें प्रतिवर्ष 11.5 प्रतिशत की वृद्धि हो रही है। उन्होंने आगे कहा कि इस सम्मेलन का विषय - "लघु एवं मध्यम उद्यमों को बढ़ावा देकर समावेशी और संपोषणीय औद्योगिकीकरण की प्राप्ति" उपयुक्त चुना गया है क्योंकि जलवायु परिवर्तन और वैश्विक तापन कटु सच्चाई हैं जो समस्त विश्व में लोगों, जन्तु एवं वनस्पति जगत को प्रभावित कर रही हैं।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि इस ग्रह को संवहनीय बनाए रखने और समृद्धि हेतु हरित भविष्य सुनिश्चित करने में, एस.एस.ई. ऐसी प्रक्रियाएं अपनाकर महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता हैं जो पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव न डाले और वर्तमान एवं भावी पीढ़ियों को नुकसान न पहुंचाए। उन्होंने आगे कहा कि सभी देशों को अपनी क्षमताओं को मजबूत बनाना होगा तथा विकास से जुड़ी चुनौतियों के समाधान हेतु विभिन्न सक्रियकों, प्रक्रियाओं एवं शासन के प्रकारों, वित्त स्रोत एवं सभी पणधारकों, क्षेत्रों और अंचलों के बीच सहभागिता एवं सहयोग को शामिल करके नये रास्ते खोजने होंगे।

उपराष्ट्रपति ने भरोसा जताया कि यह वैश्विक अभिसमय विभिन्न संबंधित पक्षों को नेटवर्क बनाने, अपने-अपने अनुभव साझा करने तथा इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण अच्छी प्रक्रियाओं को चिन्हांकित करने और उनके अनुकरण के लिए एक महत्वपूर्ण मंच के रूप में कार्य करेगा। उन्होंने आगे कहा कि भारत में इस सम्मेलन का आयोजन भारत और इसमें भाग लेने वाले अन्य देशों दोनों के लिए अत्यधिक गौरवपूर्ण है क्योंकि भारत ने "कारोबार करने की सुगमता" में 130 से 100वीं रैंकिंग पर आकर उल्लेखनीय सुधार किया है। उन्होंने आगे कहा कि भारत एसएमई क्षेत्र में उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए माहौल तैयार करने पर ध्यान केन्द्रित किया है।

Is Press Release?: 
1