छात्रों के व्यक्तित्व निर्माण में शिक्षकों की भूमिका अहम है : उपराष्ट्रपति। उपराष्ट्रपति ने श्री सरस्वती विद्यापीठ के भूतपूर्व छात्रों के सम्मेलन को संबोधित किया

हैदराबाद
दिसम्बर 17, 2017

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु ने कहा है कि छात्रों और समाज के निर्माण में शिक्षकों की भूमिका महत्वपूर्ण है। वह आज हैदराबाद में श्री सरस्वती विद्यापीठ के भूतपूर्व छात्रों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर तेलंगाना की विधान परिषद के अध्यक्ष श्री के. स्वामी गौड और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि अध्ययन कक्ष मां के गर्भ के समान हैं और सभी को शिक्षा को महत्व देना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि शिक्षा ज्ञान प्रदान करेगी और शिक्षकों को छात्रों को ज्ञान, दान और अखंडता की शिक्षा देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को ऐसे तर्क और वैज्ञानिक विचारों के साथ छात्रों को शिक्षित करना सीखना चाहिए, जिनके साथ वे बड़े होते हैं।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि किसी को सहिष्णुता के मुद्दे पर भारत को सिखाने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह भारतीय संस्कृति में सहिष्णुता का दौर रहा है। हर किसी को अपनी मां, जन्म-स्थान, मातृभाषा और मातृभूमि को याद रखना चाहिए।

उपराष्ट्रपति ने हर किसी से प्रकृति को बचाने के लिए आग्रह किया।

Is Press Release?: 
1