एनएमडीसी जैसी कंपनियों को मेक इन इंडिया की पहल को बढ़ावा देना चाहिए : उपराष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति ने एनएमडीसी के हीरक जयंती समारोह को संबोधित किया

हैदराबाद
दिसम्बर 8, 2017

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु ने कहा है कि एनएमडीसी जैसी कंपनियों को परंपरागत तौर-तरीकों से आगे बढ़कर देखना चाहिए, युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर कौशल-उन्नयन कार्यक्रम प्रारंभ करना चाहिए और 'मेक इन इंडिया' की पहल को बढ़ावा देना चाहिए। वह आज हैदराबाद में एन.एम.डी.सी. लिमिटेड के हीरक जयंती समारोह में आयोजित सभा को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह, केन्द्रीय इस्पात मंत्री श्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह, केन्द्रीय इस्पात मंत्री श्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह, तेलंगाना के उपमुख्यमंत्री श्री मोहम्मद महमूद अली, इस्पात राज्य मंत्री श्री विष्णु देव साय, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय में राज्य मंत्री तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय में राज्य मंत्री श्री वाई.एस. चौधरी, तेलंगाना के खान और भू-विज्ञान मंत्री, श्री के. टी. रामा राव और अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों ने देश के आर्थिक विकास में व्यापक योगदान दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि चाहे दूरसंचार, परिवहन, विद्युत, सिंचाई या सड़क नेटवर्क का क्षेत्र हो, इन्होंने इनकी अवसंरचना निर्माण में अग्रणी भूमिका निभायी हैं। उनका यह भी कहना था कि कोयला, तेल और प्राकृतिक गैस अन्य ऐसे महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं जहां सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों ने राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में विपुल योगदान किया है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि भारत एकमात्र देश है जिसकी लगभग 65 प्रतिशत आबादी 35 वर्षों से कम आयु वर्ग के लोगों की है। उन्होंने यह भी कहा कि यह एक बड़ा जनांकिकीय वरदान है और युवा, शिक्षित आबादी की ऊर्जा को आने वाले वर्षों में विश्व की अग्रणी आर्थिक शक्तियों में से एक के रूप में भारत को परिवर्तित करने के लिए पूरा-पूरा उपयोग में लाया जाना चाहिए।

उपराष्ट्रपति ने एन.एम.डी.सी. को वित्त वर्ष 2017 में 4,293 करोड़ रुपए का लाभ (कर के पूर्व) अर्जित करने और देश में शीर्षस्थ लाभ अर्जन करने वाली 'नवरत्न' सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों में से एक के रूप में उभरने पर बधाई दी। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता व्यक्त की कि एन.एम.डी.सी. ने रायपुर में एक विशिष्ट कार्य-समर्पित अन्वेषण स्कंध की स्थापना की है जो अतिरिक्त खनिज संपदा की खोज करने में सहायक होगा और देश में खनन क्षेत्र के विकास को आगे बढ़ाएगा।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि एन.एम.डी.सी. ने विश्व भर में अपने कार्यक्षेत्र का विस्तार किया हुआ है, इसने तंजानिया में स्वर्ण भंडारों के पट्टे हासिल किए हैं, इस कंपनी के पास इस्पात मंत्रालय के अधीन दो अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों की साझेदारी में ऑस्टेलिया में लौह अयस्क निक्षेप और मोजम्बिक में कोकिंग कोल निक्षेप में बड़े हिस्से का स्वामित्व है। उन्होंने यह भी कहा कि इसका उल्लेख करना उत्साहवर्धक है कि एन.एम.डी.सी. मौजूदा खानों की उत्पादन क्षमताओं को बढ़ाकर और नई खानें चालू करके माँग में अनुमानित वृद्धि को पूरा करने के लिए तैयार है।

Is Press Release?: 
1