उपराष्ट्रपति ने वेद विज्ञान आलोक नामक पुस्तक प्राप्त की

नई दिल्ली
जून 20, 2018

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम.वेंकैया नायडु ने आज यहां आचार्य अग्निव्रत नैष्ठिक द्वारा लिखी गई पुस्तक "वेदविज्ञान आलोक" (महर्षि ऐतरेय महीदास प्रणीत-ऐतरेय ब्राह्मण की वैज्ञानिक व्याख्या) प्राप्त की। यह पुस्तक चार विस्तृत खंडों में विभाजित है।

'वेदविज्ञान आलोक' वैदिक छंद में लिखा गया धार्मिक पद्य है। वैदिक साहित्य की प्राथमिकता के क्रम में ब्राह्मण पाठ्यपुस्तकों को द्वितीय स्थान पर रखा जाता है। ये ग्रंथ केवल ब्राह्मण समुदाय द्वारा रचित थे, इसलिए इनके शीर्षकों को ब्राह्मण कहा जाता है। उनकी भाषा वैदिक संस्कृत है जिसे अत्यंत जटिल माना जाता है। ये सभी ग्रंथ वेदों के अनुसार लिखे गए हैं, जिसका अर्थ है कि सभी चार वेदों के भिन्न ब्राह्मण हैं।

Is Press Release?: 
1