मकर संक्रांति का उत्सव, प्रकृति के साथ हमारे जुड़ाव संबंधित है : उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडु ने आंध्र प्रदेश में नेल्लोर के निकट अक्षरा विद्यालय में संक्रांति उत्सव का उद्घाटन किया।

नेल्लोर
जनवरी 12, 2018

भारत के उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडु ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी को हमारे देश की समृद्ध और जीवन्त सांस्कृतिक विरासत को भलीभांति समझना चाहिए। आंध्र प्रदेश में नेल्लोर के निकट अक्षरा विद्यालय में संक्रांति उत्सव में भाग लेने के पश्चात् एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने सभी से देश के विकास में योगदान करने का आग्रह किया।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि मकर संक्रांति का उत्सव प्रकृति के साथ हमारे जुड़ाव से संबंधित है। यह समय हमारे पूर्वजों और बुजुर्गों को स्मरण करने का समय है, जिन्होंने अपनी आने वाली पीढ़ियों को बेहतर जीवन देने के लिए अनेक बलिदान दिए हैं। उन्होंने कहा कि यह समय बुरी बातों को छोड़ने और अच्छी बातों को अपनाने का है।

उपराष्ट्रपति ने आगे कहा कि हमारे देश में प्रत्येक त्यौहार की अपनी महत्ता है और वे हमें दूसरों की सहायता करके एक अनुशासित और जिम्मेदार जीवन जीने की शिक्षा देते हैं। उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति जैसे त्यौहार हमें प्रकृति, पशु, पक्षियों की महत्ता की शिक्षा देते हैं और हमारे जीवन को बेहतर बनाने में उनके योगदान को मान्यता देते हैं।

Is Press Release?: 
1