शारीरिक खेलों की तरह ही दिमागी खेलों को भी सहयोग दिए जाने की आवश्यकता है: उपराष्ट्रपति

नई दिल्ली
जनवरी 9, 2018

भारत के उपराष्ट्रपति श्री एम.वेंकैया नायडु ने कहा है कि शारीरिक खेलों की तरह ही दिमागी खेलों को भी सहयोग और प्रोत्साहन दिए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने आज यहाँ वर्ल्ड मेमरी स्पोर्ट्स काउंसिल फॉर इंडिया के प्रतिनिधि-मंडल को संबोधित करते हुए कहा कि "निःसंदेह शरीर की अपनी सीमाएं हैं परंतु दिमाग की क्षमता असीमित है और इसकी क्षमता का पूरा-पूरा उपयोग किया जाना चाहिए। यह प्रतिनिधि-मंडल गत माह शेन्जेन, चीन में आयोजित वर्ल्ड मेमरी चैम्पियनशिप्स में चौथा स्थान प्राप्त करके लौटा है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि दिमागी खेल विद्यार्थियों और युवाओं को अपने एकाग्रता स्तर में सुधार करने, सृजनशीलता में काफी सहयोग करते हैं और जीवन में सफलता अर्जित करने में योगदान देते हैं। उन्होंने कहा कि "हमें केवल रटंत विद्या और स्मरण विद्या पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय विश्लेषणात्मक और तार्किक चिंतन कौशल की ओर भी उन्मुख होने की आवश्यकता है। विचार सृजन और समझ महत्वपूर्ण हैं।"

समग्र शिक्षा प्रणाली की आवश्यकता के बारे में बोलते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि रटंत विद्या, माता-पिता की अत्यधिक अपेक्षाएँ, बढ़ती हुई प्रतियोगिता और शैक्षणिक संस्थाओं की ऊंची रैंक प्राप्त करने की ललक विद्यार्थियों में तनाव और चिंता का कारण बन रही हैं। श्री एम. वेंकैया नायडु ने कहा, "तनाव झेलने में असमर्थ विद्यार्थियों द्वारा की गई आत्महत्या की खबरें निःसन्देह दुखदाई हैं।" "अब समय आ गया है कि संस्थाएं, सरकारें और समाज व्यापक स्तर पर ऐसे तनावग्रस्त विद्यार्थियों को सहयोग और सांत्वना प्रदान करके आत्महत्या की घटनाओं को रोकें।" उन्होंने यह भी कहा, "वे रटंत विद्या प्रणाली के तहत मूल अवधारणा को समझे बिना ही परीक्षाओं में लिखने भर के लिए याद करते हैं।"

उपराष्ट्रपति ने कहा कि प्रत्येक भारतीय के लिए यह आवश्यक है कि वह इन स्मरण तकनीकों को सीखे और एक स्वस्थ दिमाग पाने के लिए नियमित आधार पर स्मरण शक्ति बढ़ाने वाले खेलों का अभ्यास करे। उन्होंने कहा, "यदि विद्यार्थी स्मरण तकनीक सीखकर उसमे महारत हासिल कर लेते हैं तो वे काफी दक्षता और चतुराई के साथ अपने कार्य को अंजाम दे सकते हैं जिससे उन्हें अन्य पाठ्येत्तर गतिविधियों के लिए अतिरिक्त समय मिल सकता है, जो अंततः उनके समग्र विकास में सहायक होगा।"

Is Press Release?: 
1